Dushman Ko Barbad Krne Ka Naksh

Dushman Ko Barbad Krne Ka Naksh

Barbad Krne Ka Naksh

Dushman Ko Barbad Krne Ka Naksh,” Here we are giving a map to destroy and destroy our enemy. By implementing this map, your enemy can be harmed.

This map should be written 31 times in a day. On the worship of the enemy, the name of the enemy is written along with his parents and sitting in solitary confinement in the afternoon, burn all those maps in the fire and Sura: Inna Shriyaana Kaushara (Para Am’s A small note: see the Hindi Quran) and read the word ‘Abhaar’ instead of saying three times,

After 3 days, the enemy’s body will become immersed and it will become ruined and ruined. By writing this way three days in the afternoon, on the banks of the river, Sura: read Kausar and one day fly out in the river, for eight ten days. This execution will destroy the enemy and the damage to Rosie will be the map.

Dushman Ko Barbad Krne Ka Naksh
Dushman Ko Barbad Krne Ka Naksh

Urdu:-

अपने दुश्मन को तबाह व बर्बाद करने के लिए यहाँ हम एक नक्श दे रहे है इस नक्श पर अमल करके अपने दुश्मन को नुकसान पहुचाया जा सकता है
इस नक्श को एक दिन में ३१ बार लिखा जाये .नक्श की पुश्त पर दुश्मन का नाम उसके मां बाप सहित लिखे और दोपहर के समय एकांत में बैठकर उन सब नक्शो को तेज आग में जला दे और सुर: इन्ना आतयना कल क्वसर (पारा अम की एक छोटी सुर: देखे हिंदी कुरान )पढ़ता जाये और शब्द अब्तर की जगह तीन बार कहे की फलां हुवल अब्तर हुवल अब्तर .
तीन दिन के बाद दुश्मन के शरीर पर आबले पड़ जाये और वह तबाह व बर्बाद हो जायेगा .इस तरीके से तीन दिन लिख कर दोपहर के समय दरिया के किनारे पर होकर सुर: कौसर पढ़े और एक एक नक्श दरिया में बहाता जाये आठ दस दिन तक यह अमल करे दुश्मन तबाह हो जायेगा और रोजी की क्षति होगी नक्श यह है

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *